Some of the functionalities will not work if javascript off. Please enable Javascript for it.

The Nehru Memorial Museum & Library

News

‘Kuchh Afghan Kabilon ki Naslon ki Utpatti ka Alochanatmak Adhyayan: Rajasthani sroton ke adhar par’ 22nd September, 2014

सार:

इस प्रपत्र में राजस्थानी स्रोंतो के आधार पर अफ्गानिस्तान व भारतीय उप-महाद्वीप में बसने वाले कुछ कबीलों व जातीय समुदायों की ऐतिहासिक मापदण्डों पर नस्लीय उत्पŸिा के बारे में एक भिन्न प्रकार से चर्चा की गयी है। विद्वान् अफगान कबीलों की उत्पŸिा को लेकर उन्हें मध्य एशिया व ईरान की नस्लों और साथ में मंगोल व यहूदी परिवारों से सम्बन्धित मानते रहे हैं। उनका भारतीयों के साथ कोई सामाजिक सम्पर्क हो सकता है, पर कम ध्यान दिया गया है। वस्तुतः पूर्व मध्यकाल से जब सम्पूर्ण मध्य एशिया व अफ्गानिस्तान में नस्लीय तौर पर तुर्क, मंगोल या ताजीक पहचान का दौर चल पड़ा, उस क्रम में बहुत से स्थानीय कबीले अपनी जातीय पृष्ठभूमि खो बैठे। पूर्व मध्यकाल में घुरीडस् या संशबानी जिन्होंने अफ्गानिस्तान के घोर प्रदेश से उठकर मध्य एशिया व भारत में एक विशाल साम्राज्य का निर्माण किया, 11 वीं शताब्दी से ही ताजीक कहलाने लगे थे। जबकि राजस्थान का ऐतिहासिक साहित्य उनको सीमान्त प्रदेश के जादम कबीले से जुड़ा बतलाते हैं। जैसलमेर की विशेषता स्पष्ट करती है कि उनका भाटी राजपूत राजवंश भी जादम कबीले से निकला है और संशबानी उनके भाई, बन्धु थे। अर्थात् सुल्तान मुहम्मद शहाबुद्दीन गौरी जादम-भाटी था। राजस्थान के करोली का यादव राजवंश भी स्वयं को जादम बतलाता है। उनके कुछ पूर्वज सुल्तान महमूद गजनी की सैनिक सेवा में थे। अतः यह शोध का विषय है कि अफ्गानिस्तान के बहुत से कबीले उन परिवारों से जुड़े हुए थे जो भारत में भी समान रूप से बसे हुऐ थे। उनकी अफगान, तुर्क या ताजीक पहचान बाद में उभरकर सामने आयी हैं।

परिचय:

प्रो0 जी0 एस0 एल0 देवड़ा, कोटा खुला विश्वविद्यालय, कोटा, राजस्थान के निवर्तमान कुलपति व भारतीय इतिहास व संस्कृति विभाग में आचार्य व अध्यक्ष रहे हैं। वे नेहरू मेमोरियल म्यूजियम के फेलो, लन्दन विश्वविद्यालय, लन्दन में काॅमनवेल्थ एकेडेमिक स्टाॅफ फैलो तथा जामिया मीलिया इस्लामिया में यूजीसी ऐमेरिट्स फेलो भी रहे हैं। उन्होंने मध्यकालीन भारतीय राजनीति, अर्थव्यवस्था तथा वातावरण विषयों पर 11 पुस्तकें तथा 102 शोध प्रपत्र लिखे हैं। उन्हें पंजाब, राजस्थान व इण्डियन हिस्ट्री कांग्रेस के मध्यकालीन भाग के अध्यक्ष पद पर भी सम्मानित किया गया है।

Photo Collections
Event Photographs

News

Back to Top