Some of the functionalities will not work if javascript off. Please enable Javascript for it.

Children

नेहरु बाल एवं युवा अध्ययन केन्द्र

नेहरु बाल एवं युवा अध्ययन केन्द्र (NLCCY) की स्थापना 2007 में विविधात्मक कार्यक्रमों के साथ की गई जिसमें आज़ादी सप्ताह के साथ 1857 के डेढ़ सौ वर्ष जैसे कार्यक्रम शामिल थे। इस केन्द्र के कार्यक्रमों का उद्देश्य जवाहरलाल नेहरु की विरासत को जीवित रखना है, जिन्हें बाल नागरिकता में विशेष रूचि थी, और यह कार्यक्रम आज़ादी, धर्मनिरपेक्षता और अनेकता के मूल्यों पर केन्द्रित है।

बच्चों और बच्चों के साथ काम करने वाले वयस्कों के लिए एक संसाधन केन्द्र के रूप में परिकल्पित इस केन्द्र ने संग्रहालय, पुस्तकालय तथा तारामण्डल के साथ मिलकर विविध नियमित कार्यक्रम शुरू किए हैं। इनमें शामिल हैं:

  • स्टोरी कबर्ड/किताबों का पिटारा, बाल साहित्य पर आधारित मासिक कार्यक्रम
  • टॉकिंग टू टीचर्स/शिक्षकों से बातचीत, शिक्षा और अध्यापन पर आधारित द्वि-मासिक कार्यक्रम
  • दि वर्ल्ड अराउंड अस/हमारी दुनिया, बच्चों के लिए प्राकृतिक और मौखिक जगत को उद्घाटित करने वाला द्वि-मासिक कार्यक्रम।

इसके अलावा इस केन्द्र द्वारा बालदिवस, विश्व विकलांगता दिवस, वन्यजीवन सप्ताह आदि जैसे संस्मरणीय दिवसों पर विशेष कार्यक्रमों का आयोजन भी किया जाता है। बच्चों और युवाओं के लिए फिल्म दिखाने के कार्यक्रमों की योजना भी बनाई जा रही है। केन्द्र  में बाल पुस्तकालय को दोबारा शुरू किया जा रहा है जो शीघ्र ही क्रियाशील होगा और इसमें बच्चों के लिए नियमित रूप से कथा वाचन सत्र का प्रावधान किया जाएगा।

यह केन्द्र राष्ट्रीय बाल भवन, प्रथम बुक्स ऐण्ड चिल्ड्रन्स फिल्म सोसाइटी ऑफ़ इंडिया जैसी संस्थाओं और अध्यापकों, लेखकों, फिल्म निर्माताओं, कलाकारों तथा वैज्ञानिकों के सहयोग से कार्य करता है। फिलहाल में यह केन्द्र नगर निगम के स्कूलों और सरकारी कॉलेजों के साथ कार्य कर रहा है। भविष्य के लिए यह ऐसे कार्यक्रम भी बनाएगा जो सभी वर्गों और पृष्ठभूमि वाले युवाओं, बच्चों, स्कूलों और संस्थानों के लिए, संसाधनों सहित उपलब्ध होगा और उनके बीच वार्ता की शुरूआत करेगा।

आने वाले समय में यह केन्द्र ऐसे संपर्क (Outreach) कार्यक्रमों का आयोजन करेगा जो नेहरु और राष्ट्र निर्माण में उनके योगदान पर केन्द्रित होंगे तथा उन्हें समकालीन और भविष्य की आवश्यकताओं से जोडे़गें। यह संपर्क कार्यक्रम नेहरू द्वारा परिकल्पित भारत तथा आज के युवकों को जिन समस्याओं का सामना करना पड़ता है उन्हें समझने के प्रयास से प्रेरित है। एनएलसीसीवाई (NLCCY) आशा कारता है कि इन प्रदर्शनियों, हेरिटेज वॉक्स, फिल्म प्रदर्शन व अन्य प्रस्तुतियों जैसे विविधात्मक कार्यक्रमों में भाग लेने वाले बच्चे प्रदीप्त होंगे और उनके चिंतन का मार्ग खुलेगा।

Photo Collections
Event Photographs

News

Back to Top